Banner

महिला उत्थान मंडल का शुभारंभ

       ब्रह्मवेत्ता महापुरुष पूज्य संत श्री आशारामजी बापू का सम्पूर्ण जीवन प्राणिमात्र के कल्याण में रत रहा है । पूज्य बापूजी मानव-समाज के हित के लिए पारिवारिक व्यवस्था की आधारशिला नारी को भी तेजस्विनी, बहुप्रतिभासम्पन्न और सशक्त-सबल बनाने तथा नारियों में संयम, सदाचार, भारतीय संस्कृति के प्रति गौरव-भावना, भगवद्भक्ति, आंतरिक सुषुप्त शक्तियों का विकास आदि सद्गुण भरने का महत्कार्य पिछले 50 वर्षों से अपने सत्संगों व विभिन्न सेवाकार्यों द्वारा करते आ रहे हैं । बापूजी के सत्संग-सान्निध्य व मार्गदर्शन में अनगिनत युवतियों तथा महिलाओं ने अपना जीवन उन्नत किया है तथा अपने को ज्यादा सुरक्षित व सशक्त अनुभव किया है । लोक-मांगल्य की इस श्रृंखला में नारियों को पाश्चात्य कल्चर के अंधानुकरण से हो रही हानियों से बचाने तथा महिला-उत्थान, पारिवारिक सौहार्द व समाजोन्नति के सेवाकार्यों को और भी व्यापक बनाने हेतु महिलाओं के एक संगठन के गठन की आवश्यकता महसूस हुई । परिणामस्वरूप पूज्य संत श्री आशारामजी बापू की पावन प्रेरणा से ‘महिला उत्थान मंडल’ का गठन हुआ । तब से यह मंडल पूज्य बापूजी के मार्गदर्शन में महिलाओं के सर्वांगीण विकास हेतु निरंतर कार्यरत है ।