/Portals/22/UltraPhotoGallery/4796/821/thumbs/55052.MUM womenhealth copy.jpg
MUM womenhealth copy
8/8/2012 8:02:00 AM
women related health tip
8/8/2012 10:39:00 AM
Health Article View Minimize
मासिक धर्म संबंधी समस्याएँ -

मासिक धर्म संबंधी समस्याएँ - 

सुबह खाली पेट दायें नाक से श्वास लें, एक-सवा मिनट रोकें, बायें से छोड़ें - ऐसा करने से मासिक संबंधी सभी तकलीफों में राहत मिलती है । 

अन्य उपाय

मासिक बंद होने पर -

अरण्डी के पत्तों पर थोड़ा सा अरण्डी का गर्म तेल लगाकर पेट पर बाँधने से एवं तिल के 50 मि.ली. काढ़े में सोंठ, काली मिर्च, लेंडीपीपर, हींग और भारंग की जड़ का 3 ग्राम चूर्ण डालकर पीने से लाभ होता है।


मासिक अधिक होने पर - 


काली मिट्टी की पट्टी पेट पर बाँधने से, पीपल के पाँच पत्ते रोज तीन बार खाने से एवं बबूल के 5-10 ग्राम गोंद का सेवन करने से लाभ होता है ।



अल्प मासिक-स्राव में - 

(1) 50 ग्राम बथुआ 1 गिलास पानी में उबालकर छान के पानी पीने से स्त्रियों को मासिक धर्म खुलकर आता है ।(लोक कल्याण सेतु, जून 2014)

(2) पुदीने को उबालकर पीने से मासिक धर्म की पीड़ा तथा अल्प मासिक-स्राव में लाभ होता है । अधिक मासिक-स्राव में यह प्रयोग न करें ।(लोक कल्याण सेतु, मार्च 2015)

कष्टार्तव (मासिक धर्म कष्ट के साथ होना) – 

(1) सौंफ खाने से मासिक धर्म की पीड़ा में राहत मिलती है । (लोक कल्याण सेतु, अप्रैल 2015)

(2) सुबह-शाम 1-1 चुटकी हींग गुनगुने पानी में घोल के लेने से बिना कष्ट के खुलकर मासिक धर्म होता है । अधिक रक्त-स्राव में हींग का प्रयोग न करें ।(लोक कल्याण सेतु, जुलाई 2015)

एलोपैथिक गोलियाँ जो मासिक को नियमित करने के लिए ली जाती हैं, वे अत्यधिक हानिकारक होती हैं। भूल से भी इनका सेवन न करें।


 




View Details: 2294
print
rating
  Comments